जानलेवा कोरोना वायरस : दुनिया के लिए अंजान खतरा

कोरोना वायरस के संक्रमण की शुरुआत चीन के वुहान शहर से बताया जा रहा है। ये वायरस चीन के साथ साथ दुनिया के कई देशों मे फैल चुका है। इस वायरस को लेकर भारत ने भी चिन्ता जतायी है और इसके लिए विभाग ने तो एडवाइजरी भी जारी कर दी है । इस खतरनाक और अनजान वारयस के लिए चीन और हांगकाग से आने वाले लोगों की दिल्ली समेत देश के सात हवाई अड्डों पर थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गय़ी है ताकि संक्रमित व्यक्ति को पहचाना जा सके और उसे अलग रखा जा सके।

Advertisement

Corona Virus

इस वायरस कि खास बात ये है कि ये एक मनुष्य से दुसरे मनुष्य मे फैल रहा है । अभी तक मिली जानकारी के अनुसार चीन मे 17 लोगों की मौत हो चुकी है और 500 से अधिक लोगों मे ये संक्रमण पाया गया हैं। अभी तक इस वायरस के लिए कोई भी वैक्सीन तैयार नही किया जा सका हैं। सावधानी के तौर पर संक्रमित व्य़क्ति को लोगो से दूर रखा जा रहा है, ताकि और लोगों मे संक्रमण न फैल सके ।

Advertisement

य़े भी कहा जा रहा है कि ये वायरस अमेरिका तक पहुच गया है । हमारे देश के लोग भी लगातार चीन की यात्रा पर रहते ही है । हमारे यहाँ के 1200 से अधिक मेडिकल के छात्र चीन मे पढाई करते है और यदि वो वहाँ से वो लौटते है तो वायरस के संक्रमण का खतरा ज्यादा बढ जाता है। ये वायरस एकदम नया है इसलिए इसके बारे मे किसी को भी सटिक जानकारी नहीं हैं। यदि ये वायरस भारत आता है तो इसकी क्या प्रतिक्रिया होगी इसका भी अभी पता नहीं हैं ।

भारत ने इसके लिए क्या कदम उठाये है 

भारत ने सबसे पहले दिल्ली समेत देश के 7 हवाई अड्डों पर थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गय़ी है। ताकि संक्रमित व्यक्ति को पहचाना जा सके और उसे अलग रखा जा सके। इसके साथ ही चीन और हागंकाग से आने वाले सभी लोगो की जाँच करने का आदेश दिया गया है। कि आने वाले लोगो मे तो इस वायरस का संक्रमण तो नहीं है ।

सार्स नाम के कोरोना वायरस से चीन मे 2002 मे 8098 लोग संक्रमित हुए थे। जिनमे से 774 लोगो की मौत हो गयी थी। कोरोना वायरस कई किस्म के होते है लेकिन इनमे से सिर्फ 6 वायरस को ही लोगों को संक्रमित करने के लिए जाना जाता था अब इस नये वायरस के आने से इनकी संख्या 7 हो गयी है।

वायरस के संक्रमण के लक्षण  

  • बुखार
  • सिरदर्द
  • खासी
  • नाक बहना
  • गले मे खराश
  • थकान महसूस होना
  • अस्वस्थता का अनुभव होना
  • निमोनिया
  • फेफडो मे सुजन
  • छीक आना
  • आस्थमा का बढना

Advertisement

Share

Leave a Reply